Catagories

दरस दे प्रभु दरस दे ।

दरस दे प्रभु दरस दे ।

गेल्या वर्षभरात करोनाच्या वाढत्या प्रादुर्भावामुळे अथवा स्वतः किंवा जवळचे कोणी संक्रमित झाल्यामुळे माणिकनगरला येण्याच्या अनेक संधी हुकल्या. ठरवलेले बेत रद्द करावे लागले, काढलेली तिकिटे रद्द करावी लागली. प्रभु नगरी येऊन प्रभु सेवा करण्याच्या संधी हातातून अचानक निसटून...

read more
फाल्गुन पौर्णिमा प्रवचन

फाल्गुन पौर्णिमा प्रवचन

आज रविवार २८-०३-२०२१ फाल्गुन पौर्णिमा के अवसर पर श्रीजी के आशीर्वचन का प्रसारण हमारे YouTube Channel "Manik Prabhu"  पर किया गया है। आप सभी अध्यात्मप्रेमी भक्तजनों से निवेदन है कि इस प्रवचन को आत्मसात्‌ कर अपनी आध्यात्मिक उन्नति का मार्ग प्रशस्त कर होली के त्यौहार को...

read more
श्री हनुमंत दादा महाराज का पुण्यस्मरण

श्री हनुमंत दादा महाराज का पुण्यस्मरण

उन दिनों तात्या महाराज कल्याण के नवाब की कचहरी में कार्यरत थे इसलिए संस्थान की व्यवस्था से लेकर सभी अन्य छोटे-बड़े प्रबंध करने का उत्तरदायित्व दादा महाराज ने सम्हाला था। यद्यपि यह सारे कार्य उनके स्वभाव और रुचि से विपरीत थे तथापि उन्होंने प्रभु द्वारा उनपर सौंपा हुआ उत्तरदायित्व अत्यंत दक्षता से पूर्ण किया। माणिकनगर पधारने वाले प्रत्येक सद्भक्त की व्यवस्था यथोचितरीति से होती थी परंतु उनमें जो वृद्ध जन और छोटे बच्चे होते थे उनपर दादा महाराज का विशेष ध्यान रहता था। प्रभु के दरबार में पधारे भक्तजनों को उनके वास्तव्य के दौरान यहॉं किसी भी प्रकार की कोई असु

read more
महाशिवरात्रि पर श्रीजी का आशीर्वचन

महाशिवरात्रि पर श्रीजी का आशीर्वचन

आज गुरुवार 11-03-2021 महाशिवरात्रि के अवसर पर सायंकाल ठीक 6:00 बजे श्रीजी के आशीर्वचन का प्रसारण हमारे YouTube Channel “Manik Prabhu” तथा Facebook Page “Shri Manik Prabhu Maharaj” पर किया जाएगा। आप सभी अध्यात्मप्रेमी भक्तजनों से निवेदन है कि इस प्रवचन को आत्मसात्‌ कर अपनी आध्यात्मिक उन्नति का मार्ग प्रशस्त कर महाशिवरात्रि के व्रत को सार्थक करें।  

read more
श्रीमाणिक क्षेत्र दर्शन

श्रीमाणिक क्षेत्र दर्शन

प्रभुचरणों के दिव्य स्पर्ष से पुलकित है जो स्थान। उस नगरी की महिमा का अब आओ सुनें बखान।। अनुपम अद्भुत अद्वितीय है प्रभु का यह दरबार। इसकी तुलना में फीका पड़ता सारा संसार। श्रीसमाधि के दर्शन से मिटते सब क्लेश विकार।। सकलमतस्थापक श्रीप्रभु की बोलो जयजयकार।। गुरुगंगा...

read more
श्रीमत्कालाग्निरुद्र स्थापना पर्व

श्रीमत्कालाग्निरुद्र स्थापना पर्व

तभी श्रीजी ने व्यवस्थापकों को बताया, कि भंडारखाने के पीछे प्रभु मंदिर के निर्माण के समय से कुछ पत्थर पड़े हैं और उन शिलाओं में खोजने पर शायद किसी देवता की मूर्ति मिल जाए। श्रीजी की इस आज्ञानुसार जब उस स्थान पर पत्थरों के टीले को हटाया गया तो वहॉं काले पाषाण में तराशी हुई हनुमानजी की एक अत्यंत सुंदर मूर्ति मिली। इ. स. 1916 के माघ

read more