महत्वपूर्ण सूचना

दिनांक ८ फरवरी को श्रीजी का स्वास्थ्य बिगड़ने के कारण चिकित्सकों की सलह से उनका कोविड टेस्ट किया गया जिसमें पता लगा कि, श्रीजी की अस्वस्थता कोविड के ही कारण है। चिकित्सकों की सलाह के अनुसार दिनांक १२ फरवरी को श्रीजी को हैदराबाद के यशोदा अस्पताल में एड्मिट किया गया। वहॉं के तज्ञ चिकित्सकों की देखरेख में श्रीजी का इलाज आरंभ हुआ। श्रीप्रभु की असीम अनुकंपा से और यशोदा अस्पताल के कुशल चिकित्सकों के सफल प्रयत्नों के कारण दिनांक २२ फरवरी को श्रीजी पूरी तरह से ठीक होकर पुनः माणिकनगर पधारे।

अब श्रीजी की तबियत में बहुत सुधार है और कुछ दिनों की विश्रांति लेकर वे जल्द ही पूरी तरह से स्वस्थ एवं कार्यप्रवण होंगे ऐसा हमारा विश्वास है। यशोदा अस्पताल के उन सभी चिकित्सकों का एवं कर्मचारियों का हम अभिनंदन करते हैं जिन्होंने अत्यंत दक्षता से श्रीजी का इलाज किया और अपनी अत्यंत बहुमूल्य सेवा श्रीचरणों में समर्पित की। भक्त परिवार में ऐसे अनेक चिकित्सक हैं जिनका सतत सहयोग एवं मार्गदर्शन हमें श्रीजी के इलाज के दौरान प्राप्त हुआ, हम उनका भी साभार अभिनंदन करते हैं। हम श्रीसंस्थान की ओर से उन समस्त भक्तजनों को धन्यवाद समर्पित करते हैं जिन्होंने श्रीजी के अस्वस्थ होने का समाचार मिलने के बाद से उनके आरोग्य के लिए विविध प्रकार के जप एवं अनुष्ठान संपन्न किए। भक्तजनों की प्रार्थनाओं का यह परिणाम है, कि कम समय में ही श्रीजी की तबियत में सुधार हुआ और उनकी चिकित्सा अत्यंत सफलरीति से पूर्ण हुई।

अगले १५ दिनों के लिए श्रीजी अपने दैनंदिन कार्यों को आरंभ न करते हुए पूरी तरह से आरम करें ऐसी सलाह चिकित्सकों ने उन्हें दी है। हम जानते हैं, कि अनेक प्रभुभक्त आज श्रीजी के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं और माणिकनगर आकर उनके दर्शन लेने को आतुर हैं परंतु वर्तमान परिस्थिति में यह संभव नहीं है। चिकित्सकों की सलाह को ध्यान में रखते हुए हम सभी भक्तजनों से अनुरोध करना चाहते हैं, कि जिन्हें श्रीजी के दर्शन लेने हों वे दिनांक ११ मार्च के बाद ही माणिकनगर पधारें। हम श्रीचरणों में प्रार्थना करते हैं, कि सभी भक्तजन स्वस्थ एवं सुरक्षित रहें – जय गुरु माणिक।

जय श्री राम

अयोध्या नगरी में श्रीराम जन्मभूमि पर भगवान्‌ श्रीराम के दिव्य मंदिर के निर्माण का कार्य प्रारंभ हो चुका है, यह हम सबके लिए अत्यंत हर्ष का विषय है। आप सभी को अवगत है, कि तीर्थक्षेत्र न्यास के प्रतिनिधियों ने २९ जुलै २०२० के दिन माणिकनगर की मृत्तिका और जल को श्रीजी के हाथों से प्राप्त किया था और ५ अगस्त को अयोध्या में संपन्न हुई भूमिपूजा के दौरान मंदिर की नींव में उस जल एवं मृत्तिका को विधिवत्‌ स्थापित किया गया। ५ अगस्त को श्रीराम मंदिर के भूमिपूजन के अवसर पर प्रभुमंदिर में दीपोत्सव का आयोजन कर माणिकनगर वासियों ने हर्ष व्यक्त किया था। इन दिनों अयोध्या में प्रभुराम की जन्मस्थली पर एक भव्य मंदिर के निर्माण का कार्य जोर-शोर से चल रहा है। हम सबके लिए यह अत्यंत गर्व एवं आनंद का विषय है, कि जन्मभूमि न्यास ने देशभर में जो निधि संग्रह अभियान चलाया है उसमें सभी भारतीय बड़ी श्रद्धा के साथ अपना सहयोग दे रहे हैं। राम सेतु के निर्माण के समय जिस प्रकार एक गिलहरी ने भी छोटे-छोटे कंकर जमा करके सेतु बनाने में वानरों की सहायता की थी उसी तरह हम सभी देशवासियों को अपने सहयोग से प्रभु के कार्य को सफल करने का अवसर पुनः प्राप्त हो रहा है। हम सबका यह कर्तव्य है, कि इस सुअवसर का लाभ लेकर हम इस पावन एवं ऐतिहासिक कार्य में सहभागी हों एवं श्रीप्रभुकृपा के पात्र बनें। कल दिनांक १ फरवरी को तीर्थक्षेत्र न्यास के प्रतिनिधियों ने माणिकनगर पधारकर श्रीजी को आवाहन पत्र समर्पित करते हुए अभियान की जानकारी दी। आप सबको सूचित करते हुए हमें अत्यंत प्रसन्नता की अनुभूति होती है, कि कल श्रीजी ने अपने करकमलों से श्रीराम मंदिर निर्माण कार्य के लिए श्रीप्रभु संस्थान की ओर से अनुदान अर्पित किया। हमें विश्वास है, कि समस्त भारतवासियों के सयहार्य से एवं प्रभु के आशीर्वाद से मंदिर निर्माण का यह कार्य शीघ्र ही संपन्न होगा और प्रभुराम के करोड़ों आतुर भक्तों के लिए अयोध्या नगरी में स्थित जन्मस्थली क्षेत्र के द्वार श्रीदर्शन के लिए पुनः खुलेंगे।

स्वर्ण जयंती वर्ष का शुभारंभ

आज माणिक पब्लिक स्कूल के संस्थापक दिवस के अवसर पर, शाम 6 बजे प्रभु मंदिर के प्रांगण में दीप प्रज्ज्वालन के साथ विद्यालय की स्वर्ण जयंती वर्ष का शुभारंभ किया गया। श्रीजी ने अपने करकमलों द्वारा ‘माणिक स्वर्ण ज्योति’ को दीपित कर स्वर्ण जयंती वर्ष के कायक्रमों को चालना प्रदान की। अगले वर्ष की १ फरवरी को माणिक पब्लिक स्कूल की स्थापना को ५० वर्ष पूर्ण होंगे और इस उपलक्ष में अगले वर्ष विद्यालय में एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। आज शाम के कार्यक्रम की शुरुआत श्री सिद्धराज माणिकप्रभु महाराज की आरती से हुई। विद्यालय के सभी विद्यार्थी, कर्मचारी तथा निमंत्रित अतिथियों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया। अरती एवं प्रसाद वितरण के पश्चात प्रभु मंदिर के प्रांगण में स्कूल बैंड तथा एन.सी.सी. कॅडेट्स के विशेष सलामी के बीच श्रीजी का आगमन हुआ। प्राचार्या महोदया के भाषण के बाद श्रीप्रभु की महा आरती संपन्न हुई और ‘सुवर्ण ज्योति’ को प्रज्ज्वलित कर श्रीजी ने सांकेतिकरूप से स्वर्ण जयंती वर्ष का शुभारंभ किया। इसके बाद उस ज्योति को विशेषरूप से सजाए हुए वाहन में रख कर विद्यालय के सभी विद्यार्थी नगर प्रदक्षिणा करते हुए विद्यालय पहुंचे। इस कार्यक्रम में विद्यालय के सदस्यों के अलावा माणिकनगर के ग्रामवासियों सहित अनेक लोग उपस्थित रहे। विद्यार्थियों ने अपने उत्साह एवं उमंग से कार्यक्रम को अत्यंत सफल बनाते हुए सभीको आह्लादित किया। आज अंग्रेजी तिथि के अनुसार श्री सिद्धराज माणिकप्रभु महाराज की जयंती का पर्व होने के कारण इस कार्यक्रम को एक अनुठी शोभा प्रांप्त हुई। माणिक पब्लिक स्कूल ने गत ५० वर्षों में इस प्रांत की सांस्कृतिक तथा शैक्षणिक उन्नति की दिशा में जो सफलता प्राप्त की है वह सचमुच उल्लेखनीय है। इसीलिए उस महत्‌ अभियान के साथ अधिक से अधिक लोगों को जोड़कर महाराजश्री के स्वर्णिम स्वप्न को साकार करते हुए उनके चरणों में कृतज्ञता अर्पित करने का एक छोटा सा प्रयत्न, यह स्वर्ण जयंती का कार्यक्रम है। प्रतिवर्ष शाला दिवस निमित्त बड़े पैमाने पर कार्यक्रम का आयोजन होता था परंतु इस वर्ष कोरोना संक्रमण की कठिनाइयों के कारण विद्यालय परिसर में स्थित प्रार्थना स्थल पर एक सांकेतिक कार्यक्रम के साथ ही औपचारिक रूप से शाला दिवस का आयोजन संपन्न हुआ। इस एक वर्ष की अवधि में स्वर्ण जयंती निमित्त माणिक पब्लिक स्कूल द्वारा माणिकनगर में विविध कार्यक्रम आयोजित होने जा रहे हैं। १ फरवरी २०२२ को माणिक पब्लिक स्कूल में स्वर्ण जयंती निमित्त संस्थापक दिवस का एक भव्य कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

क्रिकेट टूर्नामेंट का आरंभ

आज माणिकनगर में प्रतिवार्षिक श्री सिद्धराज माणिकप्रभु क्रिकेट टूर्नामेंट का आरंभ हुआ। सुबह ८:३० बजे सिद्धराज क्रिकेट ग्राउंड में श्री आनंदराज जी ने ध्वजारोहण के साथ इस प्रतियोगिता का उद्घाटन किया। इस अवसर पर प्राचार्या श्रीमती सुमंगला जागिरदार, श्री अब्दुल रेहमान तथा ग्राम पंचायत अभिवृद्धि अधिकारी श्री हणमंत सहित अनेक क्रीडा प्रेमी लोग क्रीड़ांगण में उपस्थित थे। उद्घाटन के समय बिगुल पर सलामी धुन बजाकर विद्यालय के बैंड पथक ने कार्यक्रम की शोभा बढाई। इस प्रतियोगिता में कुल ८ टीम भाग ले रहे हैं। लीग प्रणाली में खेली जाने वाली इस प्रतियोगिता के सेमी फाइनल मॅच ६ फरवरी को और फाइनल मॅच ७ फरवरी को आयोजित केये जाएंगे। इस वर्ष के टूर्नामेंट में सभी टीम के खिलाडियों के पोशाक रंगीन होने के कारण, मॅच सफेद गेंद से खेले जाएंगे।

प्रत्यक्षरूप से मॅच देखने जो यहॉं नहीं आ सकते उनके लिए cricheroes.in/scorecard इस वेब साइट पर निरंतररूप से स्कोर को उपलब्ध किया जाएगा। नीचे दिए गए लिंक पर जाकर हम घर बैठे-बैठे मॅच का हाल जान सकते हैं। आज से लेकर कुल ८ दिनों तक आयोजित होने वाले इस प्रतिष्ठित क्रीडा उत्सव को देखने के लिए भारी संख्या में खेलप्रमियों की भीड़ माणिकनगर में एकत्रित होने वाली है। माणिक स्पोर्ट्‌स एकॅडमी की ओर से हम सबका स्वागत करते हैं।

https://cricheroes.in/scorecard/1466857/Shri-Siddharaj-Manik-Prabhu-Cricket-Tournament—XII/Manik-Sports-Academy,-Maniknagar-vs-BIDAR-CITY-XI-CRICKET-CLUB-BIDAR

 

श्रीमाणिक पौर्णिमा पर्व संपन्न हुआ

कल दिनांक २८ जनवरी को श्री माणिक पौर्णिमा पर्व का कार्यक्रम संपन्न हुआ। कोरोना संक्रमण की समस्या के कारण यह कार्यक्रम गत वर्ष के मार्च महीने में स्थगित हुआ था। इस वर्ष की शांकभरी पौर्णिमा के अवसर पर श्रीप्रभु के अनुग्रह से पुनश्च पौर्णिमा पर्व के कार्यक्रम की शुरुआत हुई है। कल आयोजित सत्संग के कार्यक्रम में श्रीजी ने ‘हिंदू धर्म के १० आदेश’ इस विषय पर व्याख्यान किया। बड़ी संख्या में उपस्थित श्रोताओं ने इस मार्गदर्शन का लाभ लिया। जो भक्तजन इस कार्यक्रम में प्रत्यक्षरूप से उपस्थित नहीं रह सके उनके लिए श्रीजी का यह प्रवचन यूट्यूब पर उपलब्ध है। श्री माणिकप्रभु इस चैनल पर प्रवचन का संपूर्ण वीडियों को देखा जा सकता है। पौर्णिमा का यह कार्यक्रम संयोगवश गुरुवार को ही होने से उपस्थित भक्तजनों को श्रीप्रभु मंदिर में श्रीप्रभु की पूजा तथा महा आरती में भी सम्मिलित होने का अवसर प्राप्त हुआ। कार्यक्रम के पश्चात भंडारखाने में महाप्रसाद का वितरण संपन्न हुआ। हम सभी भक्तजनों को पुनः सूचित करते हैं, कि आने वाले माघ की पौर्णिमा से यह सत्संग का कार्यक्रम माणिकनगर में नियमितरूप से प्रतिमाह आयोजित किया जाएगा। सभी सद्भक्तों से निवेदन है, कि प्रति पौर्णिमा को आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में सम्मिलित होकर प्रभु दर्शन, महाप्रसाद तथा श्रीजी का अमूल्य मार्गदर्शन प्राप्त कर श्रीकृपा संपादित करें।

माघ मास की अगली पौर्णिमा को ‘श्रीगुरुपौर्णिमा’ का अत्यंत पावन पर्व है। शनिवार २७ फरवरी के दिन संपन्न होने वाले इस विशेष कार्यक्रम में सबका स्वागत है।